Bhabhi Sucking Lund Story – भाभी की गांड में उंगली


भाभी सकिंग लंड स्टोरी में पढ़ें कि भाभी को नंगी करने के बाद मैं उनकी गांड में उंगली डालने लगा. फिर मैंने उन्हें अपना लंड चुसवा कर अपना वीर्य पिलाया.

कहानी के पिछले भाग
भाभी के पेटीकोट का नाड़ा तोड़ा
में आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी ममेरी भाभी के गर्म जिस्म का मजा लेते हुए उन्हें पूरी नंगी कर लिया.

अब आगे भाभी सकिंग लंड स्टोरी:

मैं पूजा भाभी की मस्त गांड के सुराख में मेरी उंगलियां अंदर बाहर करने लगा।

भाभी की गांड का सुराख बहुत ज्यादा कसा हुआ था। ऐसा लग रहा था कि भैया ने पूजा भाभी की गांड कभी नहीं मारी थी।

मुझे तो ये सोचकर बहुत ज्यादा अजीब लग रहा था कि पूजा भाभी की इतनी शानदार मदमस्त गांड होते हुए भी भैया ने भाभी की गांड पर अब तक हाथ साफ क्यों नहीं किया।

भाभी की गांड में उंगली करते हुए मुझे बहुत देर हो चुकी थीं। अब तक मैं उंगली से भाभी की गांड को चोद चुका था।

अब मैं थोड़ा सा पीछे सरका। मैंने पूजा भाभी की दोनों टांगों को पकड़कर पीछे से पीठ की ओर मोड़ दिया। मैंने फिर से पूजा भाभी को बुरी तरह से दबोच लिया।
मेरे लन्ड का पूरा दबाव भाभी की गांड के सुराख पर पड़ने लगा। भाभी को मेरा लन्ड पहले से भी ज्यादा चुभने लगा।

अब मैं पूजा भाभी की मदमस्त पीठ को चूमने लगा।
आह! आज तो यारो … मुझे पहले से भी ज्यादा मज़ा आ रहा था. इस बार मैं तबीयत से पूजा भाभी की मदमस्त जवानी को लूट रहा था।

भाभी चुपचाप पड़ी हुई थी और मैं भूखे शेर की तरह भाभी को चाट रहा था।

पूजा भाभी को चूमते हुए मैं हाथों को नीचे ले गया और भाभी के बड़े बड़े बूब्स को मसलने लगा।
अब भाभी पागल सी होने लगी थी। भाभी के पूरे मादक जिस्म पर वार हो रहा था।

मैंने बहुत देर तक भाभी को इस पोजिशन में रगड़ा। फिर मैंने पूजा भाभी को पलट दिया।
पलटते ही भाभी के सामने मेरा मूसल जैसा लंड सामने था जो भाभी की चूत को सलामी दे रहा था।

भाभी मेरे लन्ड को देखकर आज फिर से हक्की बक्की रह गई।

मैंने एक बार फिर से पूजा भाभी के बूब्ज को पकड़कर ज़ोर से मसल दिया।
भाभी एकदम से चिहुंक उठी।

अब मैंने पूजा भाभी को बांहों में भरकर मेरे जिस्म से भाभी के मादक जिस्म को लपेट लिया।
भाभी ने मुझे बांहों के हार में भर लिया।

मेरा लन्ड बहुत ज्यादा फनफाना रहा था। मेरे जिस्म में अजीब सा करंट दौड़ने लगा।

अब मैंने भाभी की केले के तने जैसी टांगों को मेरी टांगों में फंसा लिया और एकबार फिर भाभी के गले पर किस करने लगा।

मुझे भाभी को चूमने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।

पूजा भाभी मुझे बांहों में भरकर अपने मादक जिस्म को चटवा रही थी. शायद आज भाभी भी अच्छी तरह से चुदवाने के मूड में थी। आज भाभी कोई नखरे नहीं कर रही थी।

अब मेरा लन्ड सीधा पूजा भाभी की मखमली चूत को स्पर्श कर रहा था। मेरा लन्ड भाभी की चूत में समाना चाह रहा था लेकिन मैंने ही मेरे लन्ड को रोक लिया क्योंकि आज मैं इस मदमस्त माल की भरपूर जवानी का पूरा रस निचोड़ना चाहता था।

मैं लगातार भाभी की जवानी को लूट रहा था।
अब मैं पूजा भाभी के बड़े बड़े बोबों को पीने लगा। मुझे भाभी की गर्म गर्म साँसें महसूस हो रही थी। भाभी बहुत ज्यादा गर्म हो चुकी थी।

मैं थोड़ा सा पीछे सरका और घुटनों के बल बैठ गया। भाभी ठीक मेरे लन्ड के नीचे थी।

मैंने मेरे हाथों को भाभी की पीठ के नीचे ले जाकर पूजा भाभी को उठा लिया. जिससे मेरे होंठों भाभी के रसीले होंठों से जा मिले.
मेरे लन्ड का सुपारा भाभी की चूत के मुहाने पर दस्तक देने लगा।

अब भाभी ने अपने हाथों को मेरे गले में डाल दिया। मैंने भाभी के रसीले होंठों को बुरी तरह से चूस डाला।
आज मुझ में पूजा भाभी को चोदने का बहुत ज्यादा जोश भरा हुआ था. शायद पूजा भाभी भी इसी तरह की ताबड़तोड़ चुदाई के लिए तड़प रही थी।

भाभी के होंठों का रसपान करने के बाद मैं भाभी के गोरे गोरे गले पर टूट पड़ा।
अब भाभी की चूत फिर से धीरे धीरे रिसने लगी।

मैंने पूजा भाभी को वापस नीचे लेटा दिया और मैं पैरों को फैलाकर नीचे बैठ गया।
भाभी कहने लगी- रोहित जल्दी कर ले, नहीं तो चाचीजी आ जाएगी।
तो मैंने कहा- भाभी, आप चिंता मत करो; कोई नहीं आयेगा। मैं आज आपको अच्छी तरह से चोदना चाहता हूं। बाद में पता नहीं मुझे आपको चोदने का कब मौका मिलेगा।

भाभी ने कहा- मौका तो तुझे मिलता रहेगा लेकिन अभी तो जल्दी कर लें। चाची जी किसी भी टाइम आ सकती है।
तो मैंने कहा- भाभी आप बेफिक्र रहो, सीमा मामीजी नहीं आयेगी क्योंकि मैंने उन्हें पहले से ही पटा रखा है. तभी तो आपको चोदने का मौका मिला है।

इस पर पूजा भाभी हैरान होकर एकदम से उठ गई और पूछने लगी- तूने चाचीजी को कैसे पटाया?
तो मैंने कहा- भाभी, मैंने सीमा मामीजी को एक दिन मौका देखकर बाड़े में चोद दिया था और मैं मामीजी को अब तक तीन चार बार चोद चुका हूं।

यह सुनकर पूजा भाभी के कान खड़े हो गए और वो बड़ी हैरान होकर मुझे देखने लगी।
तभी भाभी कहने लगी- मुझे तो विश्वास ही नहीं हो रहा है।

तो मैंने कहा- भाभी किसी दिन सीमा मामीजी को आपके सामने ही चोदूंगा फिर तो आपको विश्वास हो ही जायेगा।
यह सुनकर पूजा भाभी एकदम से सुन्न पड़ गई।

भाभी का तो चेहरा ही फीका पड़ गया। वे कहने लगी- तू तो बहुत ज्यादा चालू निकला, मैं तो तुझे बहुत ज्यादा सीधा समझ रही थी। तूने तो तेरी मामी जी को ही चोद दिया!
तो मैंने कहा- पूजा भाभी लंड चोदने के लिए रिश्ता नहीं देखता है वो तो सिर्फ चूत ही देखता है और वैसे भी सीमा मामीजी एक शानदार माल है।

भाभी कहने लगी- फिर भी तू एक बार तो तेरी मामीजी के बारे में सोचता ना!
तो मैंने कहा- भाभी मैं क्या सोचता, मेरा लन्ड तो सीमा मामी को चोदने के लिए तड़प रहा था इसलिए मेरे लंड ने मामी की चूत बजा डाली।
भाभी के पास कुछ कहने के लिए बचा ही नहीं था।

अब मैंने भाभी को नीचे लेटा दिया। मैं उठकर पूजा भाभी के चेहरे की ओर चला गया और हम 69 की पोजिशन में आ गए। इससे मेरा लन्ड अब भाभी के चेहरे की ओर हो गया।

भाभी की मजबूत टांगें आगे की ओर फैली हुई थी। अब मैं भाभी की टांगों को पकड़कर मोड़ने लगा तो भाभी ना नू करने लगी.
लेकिन मैंने इस बार भाभी की कोई बात नहीं सुनी और भाभी की दोनों टांगों को मोड़ दिया। भाभी की टांगें हवा में उड़ने लगी.

तभी मैंने भाभी से टांगों को और ज्यादा पीछे ले जाने के लिए कहा.
तो भाभी कहने लगी- अब इससे ज्यादा पीछे नहीं जा पायेंगी।

मैंने कहा- भाभी टांगों को मोड़ कर हाथों से पकड़ो।
तो भाभी कहने लगी- नहीं, मैं ऐसा नहीं करूंगी।
मैंने कहा- प्लीज भाभी करो ना!

तो फिर भाभी मान गई और अब भाभी ने टांगों को हाथों से पकड़ लिया।
अब इससे पूजा भाभी की चूत पूरी तरह से खुल गई।

मैं भाभी की दोनों टांगों के बीच में से होता हुआ भाभी की चूत तक पहुंच गया; भाभी की मखमली चूत को चाटने लगा।

इस तरह की पोजिशन में मुझे भाभी की चूत चाटने में बहुत ज्यादा मज़ा आने लगा।
अब मेरा लन्ड भाभी के मुंह के ऊपर फन फैलाए लटका हुआ था।

मैंने भाभी को लंड चूसने के लिए कहा तो भाभी फिर से मेरे लन्ड को चूसने के लिए मना करने लगी।
फिर मैंने को ज़ोर देकर कहा- भाभी नखरे मत करो और लंड को चूसो।

अब भाभी मान गई और पूजा भाभी ने मेरे लन्ड को मुंह में भर लिया।
भाभी लपालप मेरे लन्ड को चूसने लगी।

आह! कसम से यारो मुझे तो जैसे जन्नत ही मिल गई हो।
मैं ताबड़तोड़ भाभी की चूत को चाट रहा था और पूजा भाभी मेरे लन्ड को चूस रही थी।

धीरे धीरे मैं मेरे लन्ड को भाभी के मुंह में अन्दर बाहर करने लगा। मुझे इस से भाभी के मुंह को चोदने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।
भाभी भी बिना किसी नखरे के मेरे लन्ड को चूस रही थी।

अजब गजब नज़ारा था यारो … जिस पूजा भाभी की कभी मैं इतनी इज्जत किया करता था आज उन्हीं भाभी को मैं इस तरह से मेरा लन्ड चुसवा रहा था; और मैं पूजा भाभी की मखमली चूत को चाट रहा था।
मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं कभी पूजा भाभी को इस तरह से खुलकर चोदूंगा लेकिन पूजा भाभी की चूत और गांड पाने के लिए मेरे लन्ड ने सब कुछ करवा दिया।

अब हम दोनों ही एक दूसरे को अच्छी तरह से चूम और चाट रहे थे। हम दोनों को ही बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।

भाभी की पूरी शर्म हवा में उड़ चुकी थी। अब भाभी फुल रण्डी बन चुकी थी।

बड़े प्यार से भाभी मसल मसलकर बार बार लंड को मुंह में अन्दर बाहर करने लगी।
मैं भी बड़े प्यार से भाभी को मेरा लन्ड चुसवा रहा था। पूजा भाभी जैसे मदमस्त माल को लंड चुसवाना मेरे लिए बड़े सौभाग्य की बात थी।

जब भाभी मेरे लन्ड को मुंह में भर कर चूसती तो भाभी के लंबे बालों की घटाओं में मेरा पूरा लन्ड ढक जाता था।

पूजा भाभी का इस तरह से मेरा लन्ड चूसना मुझे बहुत ज्यादा रोमांचित कर रहा था।

भाभी को मेरा लन्ड चूसते चूसते बहुत देर हो गई थी लेकिन अभी भी पूजा भाभी मेरे लन्ड बड़ी शिद्दत से चूस रही थी।
ऐसा लग रहा था जैसे भाभी बरसो से लंड की प्यासी हो और कभी भैया ने भाभी को लंड चुसवाया ही नहीं हो।

अचानक मैंने भाभी के बाल पकड़कर भाभी का मुंह मेरे लन्ड पर दबा दिया जिससे थोड़ी देर तक मेरा लन्ड भाभी के मुंह में फंसा रहा।
भाभी आह्हह ओह करने लगी। भाभी के मुंह में लंड को फंसाने में मुझे बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।

थोड़ी बाद मैंने भाभी के मुंह को हटाया।
भाभी कहने लगी- ये क्या किया तूने?
तो मैंने कहा- भाभी आपके मुंह में लंड ठूसने की बहुत इच्छा हो रही थी तो मैंने ऐसा किया।

भाभी ने मेरी बात का बुरा नहीं माना।

इधर भाभी के बड़े बड़े चूतड़ मेरे मुंह पर थे।
मैंने भाभी के चूतड़ों के बीच में स्थित छेद में मेरा मुंह मार दिया और भाभी की गांड को चाटने लगा। मेरे हाथ भाभी के कूल्हों को सहलाने लगे।
मुझे भाभी के बड़े बड़े चूतड़ों को सहलाने में मज़ा आ रहा था।

भाभी के पूरे जिस्म का दबाव मेरे शरीर पर पड़ रहा था। मुझे भाभी की गांड को इस तरह से चाटने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।

भाभी मेरे लन्ड को चूसकर तृप्त हो चुकी थी।

मैं भाभी की मदमस्त गांड को अच्छी तरह से थूक लगा लगाकर चाट रहा था। मैं तो आज जन्नत की सैर कर रहा था।

बहुत देर तक लंड चूसने के बाद मैंने भाभी को पलंग से नीचे चलने को कहा।
भाभी नीचे आने को तैयार हो गई।

भाभी सकिंग लंड स्टोरी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने पूजा भाभी की गांड में लंड फंसाया।
आपको कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताएं.
[Hindi sex stories]

भाभी सकिंग लंड स्टोरी जारी रहेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *