New chut Ke Sath Lesbian Sex


न्यू चुत के साथ मैंने लेस्बियन सेक्स किया. मेरी छोटी बहन जवान हो चुकी थी. मैंने उसे सेक्स का मजा लेना सिखाया. हम नंगी होकर एक दूसरी के जिस्म से खेली.

यह कहानी सेक्सी लड़की की आवाज में सुनें.

https://cdn.freesexkahani.com/2020/12/new-chut-ke-sath-lesbian-sex.mp3

मैं आज जो कहानी आपको सुना रहा हूं वो एक पाठिका से हुई बात के बाद लिखी है।

उसने अपने जवान होने के दौरान कैसे अपनी बहन की न्यू चुत के साथ सेक्स का अनुभव किया और कैसे एक लड़की जवान होती है, वो सब मुझे बताया.
इसमें ज्यादातर मेरी सोच से लिखी हुई है।

सुमन एक जवान लड़की थी। उसके घर में उसकी छोटी बहन तनु भी थी।

तनु अभी जवान होने लग रही थी। उसके शरीर के अंग नए पेड़ पर उगती टहनियों की तरह फैल रहे थे।
उसकी लम्बी गर्दन किसी संगमरमर की तरह बिल्कुल गोरी थी. जिसमें से उसको पानी पीते हुए साफ देखा जा सकता है।
उसके बाल पीछे कंधों के नीचे लटकने लगे थे।

उसकी छोटी छोटी चूची के नुकीले निप्पल बिल्कुल भाले की तरह सीधे खड़े रहते थे। उसकी पतली कमर किसी नागिन की तरह मुड़ी हुई थी।
उसके चूतड़ किसी मैदान में पड़े ऊंचे पत्थर की तरह उठे हुए थे।
उसकी महदोश करने वाली चाल … उसकी सफ़ेद लंबी टांगें बहुत पतली थी जो उसके चलते हुए उसके चूतड़ों का वजन बड़ी मुश्किल से संभाल पाती थी।

इतनी आकर्षक थी वो … कि किसी लड़की का दिल भी आ जाए!
लड़के तो जान दे दें उसके लिए।

हुआ भी यही … तनु अपनी बड़ी बहन के भोग का सामान बन गई।
कैसे?

चलो जानते हैं इस न्यू चुत लेस्बियन स्टोरी में!

बड़ी बहन सुमन की जवानी अब जोर पर थी। उसके शरीर में परिवर्तन होने लगे तो उसे सेक्स की इच्छा होने लगी. पर वो कुंवारी थी।

उसे किसी सेक्सी बात सुनने देखने को मिलती तो वो बाथरूम में नहाते हुए अपनी बुर रगड़ कर पागल हो जाती और उंगली अंदर डाल लेती।
जब उसे उंगली डालने से मज़ा आया तो अब वो उंगली अंडर बाहर करके अपना पानी निकाल दिया करती।
अपनी चूची को दबा दबा कर उसने 34″ साइज की बना दिया।

एक वो अपनी मां के साथ दुकान पर कपड़े लेने गई। तो वहाँ उसकी मां ने दुकान पर खड़े लड़के को ब्रा और पैंटी देने को कहा.
तो लड़के ने साइज पूछा.

पर सुमन की मां साइज़ नहीं बता सकी.
उसने सुमन की तरफ देखा तो सुमन ने हल्की आवाज़ में 34 बता दिया।
फिर माँ ने कहा- तनु के लिए भी ले ले।

तो सुमन सोच में पड़ गई. तनु चोली पहनती है मैंने तो नहीं देखा।

तभी दुकान वाले ने पूछा- और क्या चाहिए?
तो माँ ने कहा- एक छोटे साइज की दो.
तो सुमन का ध्यान टूटा और वो अब माँ की बात सुनने लगी।

फिर वो दोनों घर आ गई।

सुमन ने घर आते ही तनु को देखा तो वो सूट सलवार पहनी हुई थी।

तभी सुमन का ध्यान तनु के चूची पर गया तो उसने देखा तनु की चूची सच में बड़ी हो गई हैं जो उसके चलने से हिल रही थी।
तनु के निप्पल भी सूट में अपनी जगह बना कर अलग दिख रहे थे।

वैसे तो सुमन भी काफी सुंदर लड़की है; पर अपनी बहन के इतने खूबसूरत जिस्म को देख कर उसके मुंह में पानी भर गया.
वो सोचने लगी कि कैसे अपनी बहन को अपने साथ शामिल करके अपनी जवानी की आग बुझाने का इंतजाम करूं।

क्योंकि उसकी बहन सोती भी उसी के साथ है और दोनों लड़कियाँ हैं तो किसी घर वाले को शक भी नहीं होगा।

सुमन बाथरूम में घुस गई और सलवार और पैंटी खोल कर पेशाब करने लगी.
पर उसे पेशाब नहीं आया.

उसको तो बुर में खुजली हो रही थी. उसने बुर में दो उंगली डाल दी और अंदर बाहर करने लगी।

उसे तनु के चूची की कल्पना करके उंगली को तेज तेज घुसाने में बहुत मज़ा आया और उसने अपना पानी निकाल दिया.
फिर कपड़े ठीक करके कमरे में गई।

कमरे में उसकी माँ और तनु पहले से ही थी। माँ तनु को चोली पहनने के लिए बोल रही थी कि उसकी चूची अब बड़ी हो गई हैं. और घर और बाहर सब देखते हैं तो अच्छा नहीं लगता।
तनु बस हाँ में सिर हिलाकर जवाब दे रही थी क्योंकि हम दोनों बहाने माँ से नहीं खुल पायी थी.

अब तो मैं दो बच्चों की मां भी बन गई हूं और तनु भी एक बच्चा पैदा कर चुकी है.
पर माँ से सेक्स की बात नहीं होती. ऐसी बात माँ से करने में काफी डर लगता है।

मां के जाने के बाद तनु मुझसे बोली- दीदी, आप भी पहनती हो क्या ये सब?
तो मैंने तनु के इस सवाल का जवाब नहीं दिया.
मैं सोचने लगी कि अब इस चोली पहनने वाली बात से अपनी बात शुरू करनी है और तनु को सेक्स के लिए मनाना है।

तनु फिर बोली- दीदी क्या हुआ? आप चुप क्यों हो?
तो मैं बोली- धीरे से बोल. कोई सुन लेगा. बाहर तक आवाज जाती है.
तो वो शांत हो गई।

मैंने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद किया और फिर तनु के पास आई.
तो तनु बोली- दीदी, बताओ ना … आप भी पहनती हो क्या?
मैंने कहा- हाँ, पहननी पड़ती है. वरना हमारी चूची सबको दिखेंगी।

तनु बोली- दीदी, इसे पहनने से क्या होगा? वो तो सबकी दिखती हैं. तुम्हारी अब भी साफ दिख रही हैं।

मैंने उसके शर्ट के ऊपर से उसकी चूची को पकड़ा तो उसका निप्पल मेरे हाथ में आ गया.
वो थोड़ी हड़बड़ा गई।

मैं उसका निप्पल पकड़ कर बोली- देख, तेरा ये बाहर दिखता है. पर मेरा नहीं दिखेगा. क्योंकि मैंने चोली पहनी है.
तो उसने मेरी चूची को पकड़ा और निप्पल देखने लगी।
पर उसे नहीं मिला।

इधर मेरी हालत खराब हो गई. वो मेरी चूची को बार बार दबा रही थी तो मुझे मज़ा आ रहा था।

तनु बोली- दीदी, मुझे तो ब्रा पहननी भी नहीं आती. आप ही पहन कर दिखाओ एक बार!
तो मैं बोली- मैं तुझे सिखा देती हूं। तू अपना कमीज उतार!

मेरी छोटी बहन सकुचाती सी, शर्माती हुई अपना कमीज उतारने लगी।

उसने शर्ट उतार दिया. मैं उसके चूची देखने की कोशिश करने लगी.
पर मुझे उसकी चूची के ऊपर का हिस्सा ही दिखा क्योंकि वो समीज पहनी हुई थी।

मैं बोली- समीज भी उतार दे!
तो वो अब कुछ सोचने लगी.

मैं बोली- अरे, इसे नहीं उतारेगी तो चोली कैसे पहनेगी?
तो वो शर्म से लाल हो गई, बोली- दीदी आपके सामने?
मैं बोली- अरे, मैं तो तेरी बहन हूं. मुझसे क्यों शर्मा रही है? ले मैं अपना भी उतार देती हूं।

मैंने अपना कमीज उतार दिया तो वो मेरी ब्लैक कलर की ब्रा को ध्यान से देखने लगी।

मैं बोली- क्या हुआ?
तो वो बोली- दीदी, आपकी ती बहुत बड़ी बड़ी हैं?
मैं बोली- तू अब भी शर्मा रही है? चूची कहते हैं इनको!
तो वो बोली- हाँ, मुझे पता है।

मैंने कहा- तो साफ साफ बोल चूची … क्यों शर्मा रही है।
तो वो धीरे से बोली- चूची …

मैं हंसने लगी.

फिर उसने अपना समीज उतार दिया.
मैं अपनी छोटी बहन की चूची देख कर खुद को काबू ना रख सकी और हाथ में पकड़ कर सहलाने लगी।

सहलाते हुए मैंने जोर से दबा दिया और वो सिसकारी भर कर आवाज करने लगी- ओह दीदी, आह … क्या कर रही हो? आह दीदी … रुक जाओ … दर्द होता है।
तो मैं रुक गई।

वो बोली- दीदी, क्या कर रही हो?

मैंने कहा- तनु, तेरी चूची को दबा कर देख रही थी कि कितनी मोटी हैं. तभी तो चोली पहनेगी।
मुझे लगा कि ज्यादा नहीं करना चाहिए. वरना ये डर जाएगी और मम्मी को बता दिया तो मम्मी मेरी गांड तोड़ देंगी।

अब मैंने उसकी चोली में से लाल वाली उठाई और उसे पहनाने लगी।
फिर पीछे से हुक बंद कर दिए.

तो वो अब अपनी चोली को बार बार हाथ लगा कर देख रही थी।
नया सा लग रहा था तनु को!

पर मैं तो उस अप्सरा सी सुंदर बहन का जिस्म देख कर पागल हुई जा रही थी।

तभी मम्मी ने आवाज लगाई.
तो मैं बोली- तनु शर्ट पहन ले. मम्मी बुला रही हैं.

अब उसका ध्यान अपनी कामुक ब्रा से हट गया और वो शर्ट पहनने लगी।

फिर रात हो गई.
मैं और तनु साथ ही बेड पर लेटे हुए थे।

तनु बोली- दीदी, मुझे नींद नहीं आ रही।
मैंने पूछा- क्या हुआ?
तो वो बोली- सांस लेने में दिक्कत हो रही है. मेरी छाती भिंच गई है।

मैं बोली- तू चोली उतार ले. फिर आ जाएगी नींद!
तो उसने अपना शर्ट उतार दिया और चोली भी उतार दी.

मैंने सोचा कि अब मौका मिल गया है।
तभी मैंने कहा- तनु तेरे तो कंधे पर भी निशान हो गए।

तो वो अपने कंधे पर हाथ से देखने लगी।
अब मैंने उसके कंधे पर हाथ रख कर सहलाया तो मेरी हवस उभर गई।

वो बोली- दीदी ऐसे तो मेरे कंधे पर निशान बन जाएगा।
तो मैं बोली- तनु ला … मैं मालिश कर देती हूं.

मेरी छोटी बहन आधी नंगी ही मेरी बिल्कुल पास आ गई।

मैंने बेड पर रखा बॉडी लोशन निकाला और उसकी मालिश करने लगी.
पहले कंधे और फिर चूची पर!

तो वो बोली- दीदी, चूची पर क्यों कर रही हो?
मैं बोली- अरे चूची पर ही तो पहननी है. यहाँ भी तो निशान बन जायेंगे।
तो वो चुप हो गई.

मैं मज़े लेते हुए मालिश करती रही और अपनी बहन का मखमली बदन पर हाथ फिरा कर अपनी हवस मिटाने की कोशिश करने लगी।

पर मेरी हवस ऐसे कहाँ मिटने वाली थी।
मैंने कहा- तनु, तू मेरी भी चूची पर मालिश कर दे थोड़ी!
तो वो बोली- दीदी, कपड़े तो उतार दो।

मैंने अपना कमीज उतार दिया और अपनी ब्रा का हुक खोलने लगी.
पर जानबूझ कर तनु को बोली- मेरी चोली का हुक खोल दे!
तो उसने खोल दिया.

मैं भी अब अपनी बहन की तरह आधी नंगी हो गई।
वो मेरे मोटे चूचे बड़े ध्यान से देखने लगी।
मैं समझ गई कि ये अब कामुक हो गई है।

तो मैंने उसको हाथ से पकड़ कर हिला दिया और बोली- घूर कर क्या देख रही है?
वो बोली- दीदी, आपकीतो बहुत मोटी हैं।
तो मैं बोली- क्या मोटी है?
तो वो बोली- चूची।

अब मैं हंसने लगी.
तो वो बोली- दीदी, कैसे हुई आपकी इतनी मोटी?
मैं बोली- अभी तू छोटी है. ये सब मत पूछ! जल्दी से मालिश कर।

तो उसने लोशन लिया और मेरी चूचियों की मालिश करने लगी.
मैं तो स्वर्ग का सुख ले रही थी.

वो बीच बीच में मेरी चूची को पूरा हाथ में पकड़ने की कोशिश करती.
पर मेरी चूची बहुत मोटी थी, उससे पूरी पकड़ी नहीं जा रही थी.
उसने कई बार कोशिश की।

तो मैंने कहा- तनु तेरे हाथ में नहीं आएगी।
वो बोली- दीदी, मैं अपनी तो पकड़ लेती हूं

तो मैंने उसकी नंगी चूची को हाथ में पकड़ा और बोली- तेरी छोटी हैं. इसलिए तू अपनी पकड़ लेती है।

फिर उसने मालिश करना जारी रखा.

मैंने कहा- तनु, थोड़ी नीचे भी कर दे.
तो उसने कहा- दीदी कहाँ?

अब मैंने अपनी सलवार खोल दी।
तो उसने अजीब सी नज़रों से मेरी पैंटी को देखा.
मैंने कहा- तनु उतार दे इसे भी!

तो वो मेरे पैरों के पास आई और चोदू लड़के की तरह दोनों हाथ से मेरी पैंटी उतारने लगी.
मैंने अपनी गांड़ उठा कर उसकी हेल्प की।

उसने पैंटी बेड पर रख दी और मेरी बुर को हाथ से सहलाने लगी.
वो बड़े ध्यान से मेरी बुर देख रही थी।
मैंने अपने बाल बिल्कुल साफ कर रखे थे.

अब मैंने कहा- लोशन तो ले ले. या बुर का पानी निकाल कर करेगी मालिश?
तो वो रुक गई और लोशन से मालिश करने लगी।

अब उसकी उत्सुकता बढ़ रही थी।
वो बोली- दीदी, बुर से पानी कहाँ निकलता है? वो तो पेशाब होता है.
तो मैंने कहा- पानी भी निकलता है और पेशाब भी। दोनों ही निकलते हैं।

वो फिर मालिश करने लगी तो मैंने कहा- तनु, तुझे नहीं पता कि कैसे निकलता है पानी? पानी भी निकलता है और बहुत गर्म होता है सफेद रंग का।
तो वो बोली- दीदी मुझे देखना है पानी!

मैं बोली- ठीक है. पर तुझे कुछ करना पड़ेगा.
तो वो बोली- दीदी, बोलो क्या करना है?

मैं बोली- पहले तो अपने सारे कपड़े उतार दे।
तो उसने अपने कपड़े उतार दिए और नंगी हो गई।

मैंने उसकी कमसिन न्यू चुत देखी. उसने बाल साफ नहीं किए थे. मुझे लग रहा था कि अब तक एक बार भी नहीं।

तो मैंने पूछा- तनु, तू अपनी झांट साफ नहीं करती?
वो बोली- क्या दीदी?
तो मैं उसकी बुर के बालों को छूकर बोली- ये!

वो पीछे हट गई. शायद उसको गुलगुली हुई।
तो वो बोली- दीदी. मैं भी यही सोच रही थी कि आपके बाल नहीं हैं. और मेरे तो बहुत हैं कई साल से!

मैं बोली- हाँ, मेरे भी बहुत दिन से हैं. पर मैं साफ कर रहती हूं।
तो तनु बोली- कैसे?
मैं बोली- चल कल कर दूंगी तेरे भी! अभी तू पानी तो निकाल कर देख कि ये कैसा होता है.
तो वो बोली- हाँ दीदी दिखाओ!

मैं अपनी बुर को हाथ से सहालने लगी.
तो वो भी अपनी बुर पर हाथ रख कर सहलाने लगी।

मैं बोली- तनु तू एक काम कर … लेट जा! फिर दोनों एक दूसरी की बुर तो मुंह से चाट कर पानी निकालती हैं।
तो वो बेड पर लेट गई.

मैं उसकी बुर में मुंह लगाकर चूसने लगी.
तो वो सिसकारी भरने लगी.

मैं समझ गई कि ये साली अब गर्म हो गई है.
तो मैंने कहा- तू भी मेरी बुर चूस तनु!

वो बोली- दीदी, पहले आप मेरी और चूसो. मुझे मज़ा आ रहा है! रुको मत!
तो मैं 69 में हो गई और अपनी टांग चौड़ी कर दी।

मेरी गांड फैल गई और बुर तनु के मुंह के पास आ गई.
मैं बोली- अब तू भी मेरी चूस … मैं साथ साथ तेरी बुर चूसती हूँ।

तो वो धीरे धीरे से मेरी गर्म बुर चूसने लगी।

मैं भी अब मस्ती में आ गई और अपनी बहन की बुर को जोर जोर से उंगली से रगड़ कर चूसने लगी.
तो उसने भी अपनी जीभ को जोर जोर से मेरी बुर की फांकों पर फिराया और अंदर तक डालने लगी.

मेरा तो बुरा हाल हो गया और मैंने पानी छोड़ दिया.
कुछ ही देर में तनु की कुंवारी बुर ने भी पानी छोड़ दिया.

मैं उसका पानी चाटती रही.
और वो उंगली से मेरी बुर का पानी को देख रही थी.
मुझे तो जन्नत का मज़ा आ रहा था.

मैं बोली- देख लिया कि पानी कैसे निकलता है?
तो वो बोली- दीदी, मेरा भी निकला क्या?
मैं बोली- हाँ, तेरा पानी भी निकाल दिया मैंने!

वो बोली- दीदी, मुझे भी लगा कि मेरी बुर में से कुछ बह रहा है।

अब मैंने कहा- तनु, एक बार और पानी निकलेगी?
तो वो बोली- दीदी मुझे तुम्हारे ऊपर लेटना है.

मैं उठ गई और वो 69 में ही मेरे नंगे बदन पर लेट गई और मेरी बुर को चाटने लगी.
और मैं भी अपनी छोटी बहन की बुर को चाट रही थी.

हम दोनों बहनों ने एक बार और बुर का पानी निकाल दिया.
और फिर नंगी ही एक दूसरी से चिपक कर सो गयी।

अगले दिन सुबह उठी मैं … तो तनु सोई हुई थी।
मैंने उस नंगी को उठाया और बोली- चल नहा ले! फिर मम्मी के साथ काम भी करने हैं।

हम बहनों ने नहाते हुए फिर से लेस्बियन सेक्स का मूड बनाया.
पर मैंने पहले तनु की बुर की झांट साफ की और फिर बहन की चिकनी बुर को चूसा।

इस दिन के बाद से लेकर मैंने और मेरी बहन ने कई साल तक इस लेस्बियन सेक्स के मज़े लिए.

अब हम दोनों की शादी हो गई है और अब जब भी मिलती हैं तो अपनी उन सब बातों को याद कर करके हंसती हैं।
मेरी पिछली कहानी थी: ढोंगी बाबा तगड़ा चोदू
न्यू चुत के साथ लेस्बियन सेक्स की यह कहानी आपको कैसी लगी?
[Hindi sex stories]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *